उत्तर प्रदेश के कानपुर मामले में मृतक कारोबारी मनीष गुप्ता की होटल के कमरे तस्वीरें सामने आई हैं. 6 पुलिसकर्मियों पर आरोप है कि उन्होंने मनीष गुप्ता की बुरी तरह से पिटाई की थी, जिसकी वजह से उनकी मौत हो गई.

गोरखपुर में कारोबारी मनीष गुप्ता की मौत से पहले की होटल के अंदर की फोटो सामने आई हैं. जांच के दौरान होटल के कमरे में रामगढ़ ताल थाना प्रभारी जगत नारायण और फल मंडी चौकी प्रभारी अक्षय मिश्रा मौजूद थे. एक फोटो में मृतक मनीष गुप्ता लेटे हुए हैं, जबकि उनके दो दोस्त डाक्यूमेंट और सामान की चेकिंग करा रहे हैं.

इन तस्वीरों में थाना इंचार्ज जगत नारायण सिंह और सब इंस्पेक्टर अक्षय मिश्रा होटल के कर्मचारियों के साथ मनीष और उनके दोस्तों की आईडी चेक करते हुए नजर आ हैं. दूसरी फोटो में मनीष का दोस्त बैग खोलता हुआ दिखाई दे रहा है. इन दोनों फोटो में मनीष गुप्ता दिखाई दे रहे हैं.

बता दें कि कारोबारी मनीष गुप्ता की संदिग्ध मौत पर सियासत तेज हो गई है. पीड़ित परिवार से कानपुर में आज समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने मुलाकात की. जिसके बाद उन्होंने योगी सरकार पर गंभीर आरोप लगाए.

उन्होंने पूछा कि जिन पुलिसवालों की वजह से मनीष गुप्ता की मौत हुई है, क्या योगी सरकार उन पुलिसवालों का एनकाउंटर करवाएगी? मनीष गुप्ता की पत्नी का आरोप है कि रामगढ़ ताल के SHO और 2 SI ने उनके पति की पीट-पीट कर हत्या की है. गोरखपुर पुलिस ने 6 पुलिसकर्मियों पर हत्या के आरोप में FIR दर्ज करके उन्हें सस्पेंड कर दिया है.अखिलेश यादव ने पीड़ित परिवार से मुलाकात कर उन्हें  20 लाख की आर्थिक मदद का ऐलान किया.साथ ही कहा- कि योगी सरकार पीड़ित परिवार को दो करोड़ आर्थिक मदद दे और हाईकोर्ट के सिटिंग जज से निष्पक्ष जांच कराई जाय.

पोस्टमार्टम रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि कारोबारी मनीष गुप्ता की मौत पिटाई की वजह से हुई. मनीष के शरीर पर गंभीर चोट के 4 निशान हैं. उसके सिर और चेहरे पर चोट के निशान हैं. पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मनीष के दोनों हाथों पर भी गंभीर चोट का जिक्र है.

गोरखपुर पुलिस की गुंडागिरी :युवक को चेकिंग के नाम पर पीट-पीट कर उतार दिया मौत के घाट.

 

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *